HOME CAR GALLERY TESTIMONIALS CONTACT US SITEMAP

अजंता एलोरा गुफा

February, 02, 2019


महाराष्ट्र के औरंगाबाद एक बहुत ही सुंदर जगह है जहां पर्यटक अक्सर छुट्टियां मनाने अपने परिवार के साथ आना पसंद करते हैं। यहां आने वाले पर्यटकों को सबसे ज्यादा अपनी ओर जो आकर्षित करती है वो है एलोरा की गुफाएं। स्थानीय लोगों द्वारा वेरुल लेनी के नाम से जानी जाने वाली ऐलोरा गुफाएं औरंगाबाद से 30 किमी दूर के चालीसगांव में स्थित हैं। महाराष्ट्र की इस प्राचीन खूबसूरती को हर रोज़ सैकड़ों पर्यटक देखने आते हैं। सिर्फ भारतीय ही नहीं, विदेशी पर्यटक भी यहां देखने को मिलते हैं।

जैन धर्म, बौद्ध धर्म और हिंदू धर्म के कलाकृति और स्मारकों का प्रदर्शन करती है। गुफा मंदिरों के इस समूह का कैलाश मंदिर, 16 वी गुफा में स्थित एकल पत्थर की खुदाई की एक बेहतरीन कलाकृति है। इस मंदिर में बहुत से हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां भी हैं। ऐलोरा गुफाओं के इस समूह में कुल 100 गुफाएं हैं जिनमें से सिर्फ 34 गुफाएं ही पर्यटकों के देखने के लिए है। पर्यटकों के लिए खुली इन 34 गुफाओं में 5 जैन, 17 हिंदु और 12 बौद्ध धर्म की गुफाएं हैं। ये सभी गुफाएं प्राचीन काल के लोगों की अपने धर्म के प्रति धार्मिक भाव व्यक्त करती हैं। राष्ट्रकूट राजवंश ने बौद्ध और हिंदू गुफाओं का निर्माण किया, जबकि, यादव वंश ने जैन गुफाओं का निर्माण किया। इन गुफाओं के प्रार्थना धाम, तीर्थयात्रियों और साधु-संतों के आराम करने के लिए जगह जैसे कई उद्देश्य थे।

ऐलोरा गुफाओं का इतिहास राष्ट्रकूटों और चालुक्यों के शासनकाल के दौरान रॉक-ह्वेन की वास्तुकला शिखर पर और भारत के पश्चिमी भाग में पहुँच गई क्योंकि पश्चिमी घाट नक्काशी और उत्खनन के लिए आदर्श स्थल की पेशकश करते थे। इसके अलावा शासक सभी धर्मों के प्रति सहिष्णु थे, हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म को मानते हैं और उनके संरक्षण में रॉक-कट मंदिरों की खुदाई सफलता की नई ऊंचाइयों पर पहुंच गई।

ऐलोरा गुफाओं के आस-पास घूमने वाली जगहें वैसे तो ये ऐलोरा की इन 34 गुफाओं को घूम लेने भर से आपको संतुष्टि हो जाएगी, लेकिन फिर भी अगर आप चाहें तो इसके आस-पास के अन्य पर्यटन स्थल भी देखने जा सकते हैं। दौलताबाद किला दौलताबाद औरंगाबाद से 13 किमी की दूरी पर स्थित है। यह किला, जिसे कभी देवगिरी के नाम से जाना जाता था, 12 वीं शताब्दी का एक शानदार किला है जो एक पहाड़ी के ऊपर खड़ा है। शानदार वास्तुकला के साथ बनाया गया दौलताबाद, महाराष्ट्र के कुछ अजेय किलों में से एक है। औरंगाबाद के बीच प्रति घंटा शटल बसें भी किले तक पहुँच सकती हैं।

खुलदाबाद महाराष्ट्र का खुलदाबाद, 'वैली ऑफ सेंट्स' के रूप में भी जाना जाता है। खुलदाबाद एलोरा से लगभग 3 किमी की दूरी पर स्थित है। बड़े पैमाने पर सूफी 14 वीं शताब्दी में खुल्दाबाद की ओर पलायन कर गए थे, क्योंकि चिश्ती के कई सूफी संतों ने खुल्दाबाद (अनंत काल का निवास) का आदेश दिया था। इस पवित्र परिसर के भीतर मुगल बादशाह औरंगजेब के आध्यात्मिक मार्गदर्शक मोइनुद्दीन चिश्ती की समाधी है। औरंगजेब का मकबरा भी इस समाधी के पास ही है।

ऐलोरा जाने का सही समय इन गुफाओं की यात्रा के लिए वर्ष का सबसे अच्छा समय मानसून के मौसम के दौरान जून से सितंबर और सर्दियों के मौसम के दौरान अक्टूबर से फरवरी के बीच होता है। मार्च की गर्मी, अप्रैल और मई के महीनों में गर्मी के कारण गर्मी से बचना चाहिए। नोट: इन गुफाओं में मंगलवार को छोड़कर किसी भी दिन जाया जा सकता है। मंगलवार को ये गुफाएं पर्यटकों के लिए बंद रहती हैं। ऐलोरा गुफाओं में प्रवेश करने की टिकट प्रवेश शुल्क टिकट भारत के नागरिकों, बिम्सटेक और सार्क देशों के लिए 10 रुपये (प्रति व्यक्ति) है और विदेशियों के लिए यह 250 रुपये (प्रति व्यक्ति) है।

Read Full Article...









  RSS Feed